Lyrics-चाँद मेरा नाराज है…


चाँद मेरा नाराज़ है

ना बात करे ना मिलता है

कैसे उसको समझाऊँ

ना समझे रिश्ता दिल का है

हफ़्तों से कितने उसने ना बात की

मुझको पता भी नहीं

किस बात की नाराज़गी

चाँद मेरा नाराज़ है

ना बात करे ना मिलता है

कैसे उसको समझाऊँ

ना समझे रिश्ता दिल का है
भीड़ है इतनी दुनिया में पर

कोई न अपना दिखता है

लोग हैं पागल न समझें जो

तेरा मेरा रिश्ता है

तुझको भी तो है न मोहब्बत

फिर क्यों दूरी रखता है

ना शब् में ना सुबह में

ना शाम ढले वो मिलता है

कैसे उसको समझाऊँ

ना समझे रिश्ता दिल का है
रस्में ऐसी दुनिया की हैं

जिनसे दिल ये डरता है

दिल बेबस है मिलना चाहे

ये रोता है तड़पता है

दिल मर सकता है तो तेरे बिन

पर अब जी नहीं सकता है

तेरे बिन बीते जो पल

हर पल लगता मुश्किल सा है

मुझको बात पता है ये

मैं समझूँ रिश्ता दिल का है
हफ़्तों से कितने उसने ना बात की

मुझको पता भी नहीं

किस बात की नाराज़गी
चाँद मेरा नाराज़ है

ना बात करे ना मिलता है

कैसे उसको समझाऊँ

ना समझे रिश्ता दिल का है

Advertisements

Lyrics – ​Chaand mera naraaz hai

Chaand mera naraaz hai

na baat kare na milta hai

kaise usko samjhaoon

na samjhe rishta dil ka hai

hafton se kitne usne na baat ki

mujhko pata bhi nahi

kis baat ki naraazgi
chaand mera naraaz hai

na baat kare na milta hai

kaise usko samjhaoon

na samjhe rishta dil ka hai
bheed hai itni duniya mein par

koi na apna dikhta hai

log hain pagal kya samjhein jo

tera mera rishta hai

tujhko bhi toh hai na mohabaat

phir kyon doori rakhta hai

na shab mein na subah mein

naa shaam dhale wo milta hai

kaise usko samjhaoon

na samjhe rishta dil ka hai
rasmein aisi duniya ki hai

jinse dil ye darta hai

dil bebas hai milna chahe

ye rota hai tadapta hai

dil mar sakta hai to tere bin

par ab jee nahi sakta hai

tere bin beete jo pal

har pal lagta mushkil sa hai

mujhko baat pata hai ye

main samjhoon rishta dil ka hai
hafton se kitne usne na baat ki

mujhko pata bhi nahi

kis baat ki naraazgi
chaand mera naraaz hai

na baat kare na milta hai

kaise usko samjhaoon

na samjhe rishta dil ka hai


Watch, Share and Subscribe….

Fall in Love…


मोहब्बत किया है आपसे तो मैं कुछ भी करूंगा

लड़ना पड़े जमाने से तो मैं जमकर के लडुँगा

देना पड़े जान तो मैं यूं हँस कर दे दूंगा

बस एक बात जो आपसे मैं हर बार कहुंगा

I Love You, I Miss You, I Need You.

Mohabbat jo mai kiya krta tha

Ek thi vo meri chilbili yaar

Khusnuma thi khubsurat bhi

Natkhat thi aur pyari bhi

Kuch bachpana tha jarur usme

Per samajhdar bhi utani hi thi

Tabhi to mujhe unse kuch kuch huaa karta tha

Mai use dil diya krta tha

Use isqe kiya karta tha

Usko yaad kiya krta tha

Uske sath raha karta tha

Per ek mod jo aayi jindagi me

Ki  raste hamare badal gye

Vo kahi dur mai kahi aur

Ab baato ko tarasta hai ye mn

Unhe dekhne ko tadapti hai ye nain

                                        ~ ANKIT VERMA

अनोखी सी…

इक शाम भी अनोखी सी,
इक याद भी अनोखी सी,

दिल में दर्द भी अनोखा सा

उनकी चाहत भी अनोखी सी

वो तोहफत वो कुर्बत वो मोहब्बत भी अनोखी सी

इक मुस्कान जिस पर हम मरते हैं

वो मुस्कान भी अनोखी सी

वो इजहार वो इबादत वो प्यार भी अनोखी सी

तू भी अनोखी सी तेरा लत भी अनोखा सा

तुझसे मिलने तुझमे खोने का एहसास भी अनोखी सी

तू भी और तेरा प्यार भी अनोखी सी।

                                         ~ ANKIT VERMA