Think & Grow Rich

Situation vs Life

Life is a collection of events. Every events that happens in life have a particular situation. The situation make the flow of life. Situation may have positive or negative effects in our life or at the event of life. These effects decide our future our goal. If we go through the event that automatically generated then it is our simple life . if we don’t go through and make some changes  that we can then we can get an other goal that’s the power of himself. Which is known as the real goal. It’s an empire that is built by himself that’s our empire. Everyone must try to build his own empire. Everyone must try to build a empire that’s different from others that’s make his own identity that this is mine.

              If you are success to do so. That’s your real success. But a condition is applied that’s what! Your success is real if you don’t hurt anyone for your personal profit.

फिर दिल रोया है बरसों बाद


आज फिर दिल रोया है बरसों बाद,

कहीं हुआ है जरूर दर्द इसे जोरों से,

शायद फिर किसी ने इसे जोर से मरोड़ा होगा,

शायद फिर किसी ने इसे तोड़ा होगा,

शायद फिर किसी ने इसे अकेले में छोड़ा होगा,

बड़ा ही मासूम और नादान है ये दिल,

शायद फिर किसी ने इससे खेला होगा,

क्यों न खेलें कोई जालिम इससे,

ये कमीना इतना बेवकूफ जो है,

यूं ही किसी को अपना समझ लेता है,

यूं ही किसी को अपना हमसफर मान लेता है,

यूं किसी को अपने घर में पनाह दे देता है,

बोला था मैंने थोड़ा इगो रख लो साथ में,

पर ये कमीना बहक गया था इम्मोसन में,

अब टूट गया तो रोता है,

खुद रोता है मुझे भी रूलाता है,

इक अकेला साथी जो हूँ मैं इसका,

और लोगों का तो फितरत है अकेले छोड़ जाने का,

चुप हो जा ऐ मेरे दिल,

शायद कुछ अलग ही है तेरे लिए,

पता है उसे भूल पाना मुश्किल है,

पर तेरी स्थिति भी तो फुस्स ही है,

हालात अच्छे न हो तो सब सही है।

The broken heart..

My first book “The broken heart” is now at amazon.in  I am really excited about the book . So please buy it rate & review the book. Please share it also at your blog and help me to get more visitors for my book. Because it needs your blessing and support. So please….

You can buy it by link given below.

मेरी दस्तक वाली वो…


लिखा तो था इक खत मैंने,

अपने मोहब्बत के नाम,

बस काश कि मै उसे दे पाया होता

करता तो था मोहब्बत उनसे दिलोजान से,

बस काश कि उसे लफ्जों में बयां कर पाया होता

युं तो तेरे आँखों में झलकता था मेरा प्यार

बस काश कि उसे बाहों में तराशा होता

कुछ बातें भी हो जाती थी हमारी

बस काश कि बातों बातों में ही

दास्तां-ए-दिल तुसे मैं बोला होता

आज तू मेरी होती और मैं तेरा होता

जिन्दगी अपनी होती इश्क भी अपना होता।