खत..

मैंने तो लिखा था एक खत उनके नाम

उसमे कुछ यादें थी

कुछ बाते थी

कुछ इजहार वाले सौगाते भी थी

कुछ प्यार था

कुछ चाहत था

कुछ थी कसमकस जिंदगी की

कुछ स्वाभिमान था

एक प्यारा इंसान था

हाले दिल का दास्तान था

शायद उनके लिए मेरा थोड़ा पहचान था

जो भी था बस उनके लिए

मेरे दिल का एक बयान था

मै अब बस उनका हूँ

मेरा दिल बस उनका है

सब अच्छा ही था उस खत में

कुछ शेरो शायरी भी थी उसमे

कुछ अनुभव था उनसे मिलने का

कुछ एहसास भी था दुरी का

यु अगर कुछ शब्दों में बोले तो

ये खत नहीं एक एहसास था

उनका मेरे जिंदगी में आने का

मेरा उन्हें पाने का

मेरा उनके साथ होने का

उनकी यादो में मेरा यु खो जाने का

वो जो खत था न

मेरे धड़कन का धक् धक् था

उनके लिए मेरा एक समर्पण था

Crazy Lover

Triangle of Love

Dear Readers,

There’s my new book published at amazon. I am glad about it and waiting for your reaction about it. So I have a request for you. please buy it share it and give feedback about it. I need your love and support for writing more n more for you…..

waiting for your review

Ankit Verma

तू खुश रह…

तू खुश है तो

मुझे तेरी जरुरत ही नहीं है

बस इस कदर नजरें न छुपा तू

मुझे शर्मिन्दगी महसूस न करा तू

दूर रहके तू मुझसे जो खुश है

तो जिंदगी को जिए जा तू

मेरे बारे में सोच न घबरा तू

जिंदगी है कुछ पल में सिमट जाएगी

कभी तू मेरी भी तो थी

कुछ पल तेरे बिन भी कट जाएगी

जो तू खुश है तो

मुस्कुराके सामने से जाएगी

यूँ अपने पलकों को न झुकायेगी

माना की कुछ दर्द है मेरे दिल में

अभी भी तेरी चाह है इस दिल में

फिर भी तू बिन परवाह के जाएगी

बस तू खुश रह

मेरे जिंदगी के कुछ पल

तेरे यादों में ही कट जायगी

मेरा दम तो तेरी तन्हाई में घुट जाएगी

बस तू खुश रह

सब जल्द ही मिट जाएगी

यहाँ तो नहीं है तुझे जरुरत मेरा

पर शायद ऊपर ही पड़ जाएगी

हिचकना न तुम बोल देना

क्योकि धड़कन तब हो न हो

पर यादें तेरी तब भी हमें आएँगी

मेरी आँखे तुझको ही देखना चाहेंगी

मेरी बाहें तुझसे ही भरना चाहेंगी

मेरे कान भी तुझे ही सुनना चाहेंगी

बस हिचकना मत तू बोल देना

अभी तू खुश है बस खुश रह

मेरा परवाह न कर तू बस खुश रह

Crazy Lover

Kaash Vo Saamne Hote

काश वो हमारे सामने होते

तो उनकी आँखों में निहारे होते

लफ्जो से न सही

आँखों की गहराइओ से ही

उनके हाल ए दिल को तो जान लेते

उनके होठो की मुस्कराहट पर ही

थोड़ा हमं भी मुस्कुरा लेते

काश वो मेरे सामने होते

होठो के मुस्कारो से या

आँखों के इसारो से ही सही

उनसे थोड़ा गुफ्तगू भी कर लेते

काश वो सामने होते ..

उन्हें नींदो में तो पाया है हमने

सपनो में उनके साथ वक्त भी बिताया हमने

उनसे बातें भी की है

उनके सिर को भी सहलाया हमने

काश वो सामने होते

बाहो में न सही

एक बार हाथ तो मिलाया होता

अगर हो पाता हाल ए दिल सुनाया होता

जवाब में न ही सही

मगर उनके आँखों में सच्चाई तो देख पाया होता

काश वो मेरे सामने होते ……?

Hinglish..

Kaash vo hamare samne hote

To unki aankho me nihare hote

Lafjo se na sahi

Aankho ki gahraioo se hi

Unke haale dil ko to jana lete

Unke hotho ki muskurahat pr hi

thoda hmm bhi muskura lete

kaash vo mere saamne hote

hotho ke muskaro se ya

aankho ke isaaro se hi sahi

unse thoda guftgu bhi kr lete

kaash vo samne hote..

unhe needo me to paya hai hmne

sapno me unke sath vakt bhi bitaya hmne

unse baaten bhi ki hai

unke sir ko bhi sahlaya hmne

kaash vo samne hote

baaho me na sahi

ek baar hath to milaya hota

agar ho pata haal e dil sunaya hota

javab me na hi sahi

magar unke aankho me sachchai to dekh paya hota

kaash vo mere saamne hote……?

Jab Mohabbat Hoti Hai…..

जब  मोहब्बत  होती  है

 किसी  से   तोहफत  होती  है

 सब  अच्छा  लगता  है

 आँखों  से  बाते   होती  है

 होठो  पे  मुस्कराहट  होती  है

 दिल  में  एक  हलचल  होता  है

 उनसे  मिलने  की  खवाइश  हर  पल  होती  है

  इश्क़  का  सबसे  अच्छा   गवाह  तो  ये  धड़कन  होता  है

  उसके  पास  हो  तो  जोर  से  धड़कता  है

  उसकी  याद  आये  तो  जोर  से  धड़कता  है

 इश्क़  का   एहसास  ये  धड़कन

  दिलो  के  मिलाने  का  प्यास  है  ये  धड़कन

 इश्क़  का  आवाज  भी  ये  धड़कन 

उनकी  ब|हो  में  होने  उनमे  खोने  की  प्यास  ये  धड़कन

  धड़कनो  को  धड़कनो  से  जुड़  जाने  दो 

दिल  को  दिल  से  मिल  जाने  दो 

 ये  मेरे  मेहबूब  मुझे  तेरे  मोहब्बत  में  खो  जाने  दो

 ऐसी  ही  एहसास  होती  है 

जब  किसी  से  मोहब्बत  होती  है .

Na Jane Kyo…

मै  करता  हूँ  तुमसे  प्यार

याद   करता    हूँ   तुम्हे   दिन   रात

शायद  तुम  भी  करती  हो

मैंने  किया  तो  कई दफा इजहार

पर  न  जाने  क्यों  तुम  न  न  करती  हो

तड़पता  हूँ  तुमसे  मिलने  को  मै

पर  तुम  इसारो  में  हाँ   और  lafjo से  न  करती  हो

ये  सिलसिला  है  तेरे  मेरे  मोहब्बत  का

इसमें  मोहब्बत   भी  है  तन्हाई  भी  है

नींद  में  सपने  भी  है  दिल  में  इश्क़  वाला  अनुभव  भी  है

फिर भी न जाने क्या है तेरे मेरे बिच

जो अब भी ये दुरी है

फिर भी न जाने क्यों तू न न करती है

कभी लगता है की कहीं ये एकतरफा इश्क़ तो नहीं

कभी लगता है की hum  कभी मिलेंगे   भी या नहीं

बात करता हूँ तुमसे तो शुकु मिलता है

पर कभी कभी बातो से तेरे दिल में सुई चुभता है

न जाने क्यों तू मुझे इतना तड़पाती है

मेरा नींद चैन सब छीन  ले जाती है

क्या होगा कब बस इसी का इन्तजार है

मुझे जरुरत  बस तेरा एक इजहार का  है

अब ये intehan तेरे मेरे प्यार ki है

Meri Tanhaiyo Me…

meri tanhaiyo me tum ho

meri rusvaiyo me tum ho

meri saas me tum ho

meri dhadkan me tum ho

mere dil me tum ho

meri jaan ho tum

mere jine ka armaan ho tum

meri mohabbat ho tum

meri mehbooba ho tum

meri muskurahat ho tum

mere muskurane ki vajah ho tum

meri khushi ka eahsaas ho tum

meri need bhi tum ho

in needo me sapne bhi tum ho

meri sangeet bhi tum ho

meri meet ho tum

उड़नछू (10) – Keep Trying…

Maine pucha mohabbat se

aji mohabbat karti ho kya

usne bol diya na re baba bol diya na

dil ko tod diya re baba dil ko diya na

mano kisi ne ser pr bum fod diya na

mai tadap utha mai ro pada

vo chali gy mujhe chhod vha

kuch sukun mila jb dost mile

aur muskura ke ye bol pade

chhod bhai uski sakal hi achchi ni thi

chal chal mere bhai tere liye koi aur hai bhai

aur sun keep trying……