तेरी तन्हाइयाँ….

तेरी तन्हाइयों में इक नशा सा है
ये नशा भी कुछ अजीब सा है

दिल की धड़कन को बढ़ा देता है

और हय धड़कन पर तेरी यादें

जो बेचैन कर देता है मन को

 तुझे देखने की चाहत

पता नहीं क्यों ऐसा लगता है मुझे

तू है मेरे पास बस यहीं कहीं

आँखें बंद करूं तो तू ही है

आँखें खोलूं तो भी तू ही है

मन में, दिल में, धड़कनों में 

बस तू है तू ही तू है।।

                           ~ ANKIT VERMA

Advertisements

Meri Zindagi Me….

What a lovely song once you play it can’t stop watch it again-n-again

Tujhe Dhundh Raha Dil

Rashte Har Kadam Chalte Hi Rahe

Raahon Mein Dard Shau Milte Hi Rahe

Dhundhali Dhundhali Raah Hai

Dhundhali Har Manzil
Tujhe Dhundh Raha Dil

Tujhe Dhundh Raha Dil
Kabhi Kahi Tham Jaaye,

Shashon Ka Silsila,

Kabhi Nahi Tootega,

Yaadon Ka Kafila…
Zindagi Chhor Di Kiss Raah Mein

Kya Se Kya Ho Gaye

Hum Teri Chaah Mein..
Jeena Hai Mushkil

Tujhe Dhundh Raha Dil

Tujhe Dhundh Raha Dil..
Do Kinaron Se Hum The

Mil Ke Bhi Na Mille

Darmiyaan Thhe Dilon Ke

Meelon Ke Fasle
Toot Kar Reh Gaye

Hum Chaardeewaron Mein

Dafn Hai Zindagi Jaise Mazron Mein

Kuch Nahi Hasil..
Tujhe Dhundh Raha Dil

Tujhe Dhundh Raha Dil

तुझे ढूंढ रहा दिल…

रास्ते हर कदम चलते ही रहे

राहो में दर्द सौ मिलते ही रहे

रास्ते हर कदम चलते ही रहे

राहो में दर्द सौओ मिलते ही रहे

धुंधली धुंधली राह है

धुंधली हर मंजिल

तुझे ढूंढ रहा दिल

तुझे ढूंढ रहा दिल

तुझे ढूंढ रहा दिल

तुझे ढूंढ रहा दिल
कभी कही थम जाए

सांसों का सिलसिला

कभी नहीं टूटेगा

यादों का काफिला

ज़िन्दगी छोड़ दी तूने

किस राह में

क्या से क्या हो गए

हम तेरी चाह में

जीना है मुश्किल
तुझे ढूंढ रहा दिल

तुझे ढूंढ रहा दिल

तुझे ढूंढ रहा दिल

तुझे ढूंढ रहा दिल
दो किनारों से हम थे

मिल के भी ना मिले

दरमियाँ थे दिलो के

मीलो के फासले

टूट कर रह गए

हम चार दीवारों में

दफन है ज़िन्दगी जैसे मज़ोरों में

कुछ नहीं हासिल
तुझे ढूंढ रहा दिल

तुझे ढूंढ रहा दिल

तुझे ढूंढ रहा दिल

तुझे ढूंढ रहा दिल

Lyrics-चाँद मेरा नाराज है…


चाँद मेरा नाराज़ है

ना बात करे ना मिलता है

कैसे उसको समझाऊँ

ना समझे रिश्ता दिल का है

हफ़्तों से कितने उसने ना बात की

मुझको पता भी नहीं

किस बात की नाराज़गी

चाँद मेरा नाराज़ है

ना बात करे ना मिलता है

कैसे उसको समझाऊँ

ना समझे रिश्ता दिल का है
भीड़ है इतनी दुनिया में पर

कोई न अपना दिखता है

लोग हैं पागल न समझें जो

तेरा मेरा रिश्ता है

तुझको भी तो है न मोहब्बत

फिर क्यों दूरी रखता है

ना शब् में ना सुबह में

ना शाम ढले वो मिलता है

कैसे उसको समझाऊँ

ना समझे रिश्ता दिल का है
रस्में ऐसी दुनिया की हैं

जिनसे दिल ये डरता है

दिल बेबस है मिलना चाहे

ये रोता है तड़पता है

दिल मर सकता है तो तेरे बिन

पर अब जी नहीं सकता है

तेरे बिन बीते जो पल

हर पल लगता मुश्किल सा है

मुझको बात पता है ये

मैं समझूँ रिश्ता दिल का है
हफ़्तों से कितने उसने ना बात की

मुझको पता भी नहीं

किस बात की नाराज़गी
चाँद मेरा नाराज़ है

ना बात करे ना मिलता है

कैसे उसको समझाऊँ

ना समझे रिश्ता दिल का है

Lyrics – ​Chaand mera naraaz hai

Chaand mera naraaz hai

na baat kare na milta hai

kaise usko samjhaoon

na samjhe rishta dil ka hai

hafton se kitne usne na baat ki

mujhko pata bhi nahi

kis baat ki naraazgi
chaand mera naraaz hai

na baat kare na milta hai

kaise usko samjhaoon

na samjhe rishta dil ka hai
bheed hai itni duniya mein par

koi na apna dikhta hai

log hain pagal kya samjhein jo

tera mera rishta hai

tujhko bhi toh hai na mohabaat

phir kyon doori rakhta hai

na shab mein na subah mein

naa shaam dhale wo milta hai

kaise usko samjhaoon

na samjhe rishta dil ka hai
rasmein aisi duniya ki hai

jinse dil ye darta hai

dil bebas hai milna chahe

ye rota hai tadapta hai

dil mar sakta hai to tere bin

par ab jee nahi sakta hai

tere bin beete jo pal

har pal lagta mushkil sa hai

mujhko baat pata hai ye

main samjhoon rishta dil ka hai
hafton se kitne usne na baat ki

mujhko pata bhi nahi

kis baat ki naraazgi
chaand mera naraaz hai

na baat kare na milta hai

kaise usko samjhaoon

na samjhe rishta dil ka hai


Watch, Share and Subscribe….