Home » Uncategorized » बस इक ख्वाहिश…..

बस इक ख्वाहिश…..

Start here

वो थी जिन्दगी मे तो शायरी भी थी,आशिकी भी थी।
कहीं गुम सी हो गई वो तो शायरी भी नहीं,आशिकी भी नहीं।

शायरी भी उनकी थी,आशिकी भी उनकी थी।

वो लफ्ज़ भी उनकी थी,वो बातें भी उनकी थीं।

दिल सुनता भी उन्हीं को था,

दिल समझता भी उन्हीं को था,

ना जाने कैसे ये दूरी बन गई,

ना जाने क्यों वो हमसे दूर गई,

ना जाने क्या हुआ है. आजकल,

रोने को अश्क ही नहीं,

बोलने को लफ्ज़ ही नहीं,

मन समझता नहीं दिल सम्भलता नहीं,

ये क्या हो रहा है ये क्यों हो रहा है,

है कैसी ये बेबसी अपनी,

सब खत्म सी हो गई अपनी,

इक ख्वाहिश ही अब बची दिल की

फिर मिलें हम फिर हसें हम,

फिर शायद वो शायरी आ जाये,

फिर शायद वो आशिकी आ जाये,

फिर शायद वो हँसी आ जाये, 

अब बस इसी इक ख्वाहिश के लिए,

जिन्दगी भी बची है बन्दगी भी बची है।

                                                      ~ ANKIT VERMA

Advertisements

15 Comments

  1. Madhusudan says:

    फिर शायद वो शायरी आ जाये,

    फिर शायद वो आशिकी आ जाये,

    फिर शायद वो हँसी आ जाये, 

    अब बस इसी इक ख्वाहिश के लिए,

    जिन्दगी भी बची है बन्दगी भी बची है….बहुत खूब।

    Liked by 1 person

  2. Waah, bhut khub👌👌

    Liked by 2 people

  3. Shayra says:

    Nice poem👍

    Liked by 1 person

  4. aruna3 says:

    Bus ab taiyaar ho jaao-minya Ghalib ya mir ya faiz ban ne ki khatir…pyaar ke raste bahut lambe hote hein.kadam ruk nahi sakte….mehbooba mile ya uska saaya-chalte hi jaana he.
    Vese bahut sunder likha he aapne.ibtdaaye ishq me rota he kya;aage aage dekhye hota he kya….

    Liked by 1 person

  5. pkckd1989 says:

    बहुत खूब लिखा है आपने।

    Liked by 1 person

  6. बहुत ही खूबसूरत रचना है आपकी।

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: